Domain Name क्या है ? पूरी जानकारी hindi में

Domain Name क्या है पूरी जानकारी hindi में

 

अगर आप थोड़े भी tech friendly हैं तो “Domain Name” इस word से आप जरूर परिचित होंगे . आप Blogging कर रहे हो या आपको business के लिए website चाहिए domain name की जरुरत पड़ेगी ही . तो आइये जानते हैं domain Name की बारे पूरी जानकारी . Domain Name क्या है ? पोस्ट को last तक पढ़िए आपको कई interesting जानकारी यंहा मिलने वाली है .

 

Domain Name क्या है ? आइये जानते हैं :-

Domain Name आपकी वेबसाइट का नाम है . अगर सीधे शब्दों में कहें तो जो आपके वेबसाइट के url का नाम है उसे ही domain name कहते हैं . Domain Name एक address होता है जिससे user आपके वेबसाइट को access कर सकते है . Domain name का प्रयोग internet से जुड़े किसी computer की पहचान और खोज करने के लिए की जाती है . अब Computer IP Address का उसे करता है जो numbers के कुछ series होते हैं . और इंसान के लिए ये numbers of strings याद रखना मुश्किल है . तो ऐसे हम कह सकते हैं की domain name को इसिलए develop किया गया की इंसान को ये numbers of strings (IP Address ) याद रखने की जरुरत न पड़े .

तो हम कह सकते हैं की domain name Words, Letters और numbers से तैयार होता है जिसके लिए हमे server के IP address को याद रखने ही जरुरत नहीं होती है . जैसे की आप Browser में आप type करते हैं techysharif.in जो user को एक dedicated server IP (104.27.143.97) पर transfer कर देता है , और आपके सामने site open हो जाती है .

अब Domain Name के बारे में आगे चलने से पहले यंहा मैं आपको domain के components के बारे में बताऊंगा . एक Domain Name जो strings वो dot(.) से separated होते हैं . जो 2 या 3 part में हो सकते हैं ये आपकी website पर depend करता है . मैं समझाता हूँ Confuse होने की जरुरत नहीं है ….

Domain name का Genral Syntax Structure होता है वो machine_name.subdomain.domain.tld इस तरह से होता है .
www: Machine Name
techysharif: Midlevel Domain
.in: TLD top level domain

 

अब आइये domain के Components को समझ लेते हैं .

1. Machine Name – www machine name है . वैसे अब इसका प्रयोग लगभग खतम ही हो रहा हे . और सच कहें तो इसकी जरुरत भी नहीं है . “www” आपकी साइट के HTML file के बारे में बताता है . जैसे ‘ftp’ other server पे file को transfer करने के लिए होता है .

2. Mid Level Domain– Mid level domain domain name का sub domain part part होता है . ये आपके domain का सबसे recognizable part होता है , साथ ही ये आपके domain को दूसरे domain से अलग करता है . जैसे एक उद्धरण के लिए en.m.wikipedia.org ‘wikipedia’ Parent Mid level domain है और ‘en’ and ‘m’ sub domains हैं जो English version और Mobile version को दर्शाते हैं .

3. Top Level Domain (TLD)– TLD domain name का बहुत important part है . TLD domain name का सबसे last हिस्सा होता है . जो आपकी site को search engine में rank करने में बहुत helpful साबित होता है . Top Level Domain जैसे आपने .COM, .ORG के बारे में पता ही होगा . Country के हिसाब से भी TLD अलग होते हैं जैसे .IN, .CO.IN अब कुछ new generic TLD’s जो बहुत Famous हो रहे हैं जैसे .

GURU, .Me, .Today
Best and Popular TLD’s
.COM (Commercial )
.ORG
.NET (NETWORK)
.GOV(GOVERNMENT)
.BIZ(BUSSINESS )

gTLD और ccTLD Domain Names में क्या Difference है ?

gTLD– Generic Top Level Domains किसी Geography या Country के बेस पर नहीं होते हैं . और ये Search engine में जल्दी Ranked होते हैं . अगर किसी ब्लॉग या वेबसाइट को globally rank करना है तो उन्हें gTLD domains ही use करने चाइये . For example .com, .net, .org, .info etc

ccTLD- Country Code Top level Domain particular किसी region या country को target करता है . For Example .co.in, .au, .pk etc Ye Kisi country के two letter ISO Code पर आधारित होता है .

 

Domain Name की History

1995 से पहले domain name registered करना बिलकुल फ्री था आपको इसके लिए कोई charge नहीं देने होते थे . कोई भी व्यक्ति domain registered कर सकता था फ्री में उस time में किसी domain registrar की भी जरुरत नहीं पड़ती थी .

इसके बाद बहुत कुछ बदल गया , NSF (National Science Foundation) से awarded tech company Network Solutions को ये जिम्मेदारी दी गई की Domain Name के registrations के लिए charge लिया जाये . इस तरह से Network Solutions दुनिया की पहली domain registrar company बन गई .

इसके बाद 1998 में DNS को पूरी तरह से US government control करने लग गई . उस समय President Clinton के साथ हुए debate और arguments के बाद DNS का partially privatized कर दिया गया और एक Non Profit sanstha बना गई जिसका नाम दिया गया ICANN. सबसे पहला डोमेन 15 March 1985 को Symbolics Inc. ने symbolics.com के नाम से करवाया था . 1985-1988 के बिच total 300 domains registered हुए .

 

ICANN Kya Hai?

 

ICANN ka Full Form है Internet Corporation for assigned names and Numbers जो government से स्वतंत्र काम करती है और domain name registration के लिए internationally guidelines और policy develop करती है .ICANN Global DNS पर work करता है .

 

New TLD’s create करता है . Root Name Servers को operate करता है , साथ ही regional Internet registries के लिए IP Spaces और IP block mange और assigned करती है .

 

यंहा मैं आपको बता दूँ की ICANN Domain registered नहीं करती . ये Domain registrar company like Go Daddy को authorize करती की आप fee लेकर domain को sell या distribute कर सकते हैं .

 

Top Domain Registrar Companies

Domain Name Registrar – Website Domain Names
1 Godaddy Godaddy.com
2 eNom Namecheap.com
3 Tucows Hover.com
4 Network Solutions Networksolutions.com
5 1&1 Internet 1and1.com
6 HiChina Net.cn
7 Directi Internet Solutions Bigrock.com
8 eName Ename.net
9 GMO Internet Onamae.com
10. Reseller Club india.resellerclub.com

 

Domain Name और URL में क्या Difference है ?

 

Domain Name और url same नहीं होता Domain name एक छोटा सा हिस्सा होता जबकि URL में एक पूरा address होता है . Url का मतलब है uniform resource locator. Url के अंदर Machine name, Folder name, page address और protocol language सभी की जानकरी होती है .

Jaise: https://techysharif.in/
https://www.techysharif.in/नया-ब्लॉग-कैसे-बनाये

 

Domain Name Purchase करने के कुछ Useful Tips

#हमेसा Short Domain name को choose करें जो याद रखने में आसान हो . बहुत लम्बा domain name choose न करें .

#Domain name हमेसा ऐसे choose करें जो की आसानी से याद रखा जा सके , बोलने में easy और type काने में भी आसान हो .

 

#आपका domain किसी दूसरे से मिलता जुलता न हो कहने का मतलब domain name unique होना चाहिए .

हमेसा कोसिस करें की domain name में Special Characters या numbers का use न हो .

#Top Level Domain का चुनाव कीजिये . जिससे global identity बन सके .

#आपका domain name आपके business से मिलता जुलता होना चाहिए ताकि आप अपने brand को आगे बढ़ा सकें .

मुझे उम्मीद है जो new bloggers है या जो new website या ब्लॉग बनाना चाहते हैं . उनके लिए इस पोस्ट को पढ़ कर domain को समझना आसान हो गया होगा . अगर आपको Domain से related कोई confusion है या question है तो हमे comment में जरुए बताएं . पोस्ट को share कीजिये जिससे दूसरों को भी ये जानकारी मिल सके धन्यवाद .

 

 

ये भी पढ़िए :-

Backlinks क्या है कैसे बनाएं और क्यों ज़रूरी है ?

Blogspot Vs WordPress Vs Tumblr कोन सा Blogging Platform Best है ?

Bounce Rate क्या हे इसे कैसे Decrease करें ? जानिए हिन्दी

मेरा नाम शरीफ़ अहमद कादरी हे में एक Youtuber भी हूँ और ब्लॉगर भी हूँ ,इस वेबसाइट पे आपको Technology से जुडी हर तरह की जानकारी मिलती हे अगर आप ब्लॉग्गिंग सीखना चाहते हैं या youtube channel बनाकर पैसा कमाना चाहते हैं या Affilate Marketing करना चाहते हैं या technology से जुडी कोई भी जानकारी लेना या सीखना चाहते हैं तो इस वेबसाइट पर आपको वो सब कुछ सीखने को मिलेगा जो भी आप सीखना चाहते हैं!

Leave a Reply